na takht-o-taaj mein ne lashkar-o-sipaah mein hai | न तख़्त-ओ-ताज में ने लश्कर-ओ-सिपाह में है - Allama Iqbal

na takht-o-taaj mein ne lashkar-o-sipaah mein hai
jo baat mard-e-qalander ki baargaah mein hai

sanam-kada hai jahaan aur mard-e-haq hai khaleel
ye nukta vo hai ki poshida laa-ilah mein hai

wahi jahaan hai tira jis ko tu kare paida
ye sang-o-khisht nahin jo tiri nigaah mein hai

mah o sitaara se aage maqaam hai jis ka
vo musht-e-khaak abhi aawaargaan-e-raah mein hai

khabar mili hai khudaayan-e-bahr-o-bar se mujhe
farang rahguzar-e-sail-e-be-panaah mein hai

talash us ki fazaaon mein kar naseeb apna
jahaan-e-tazaa meri aah-e-subh-gaah mein hai

mere kadu ko ghaneemat samajh ki baada-e-naab
na madarse mein hai baaki na khaanqaah mein hai

न तख़्त-ओ-ताज में ने लश्कर-ओ-सिपाह में है
जो बात मर्द-ए-क़लंदर की बारगाह में है

सनम-कदा है जहाँ और मर्द-ए-हक़ है ख़लील
ये नुक्ता वो है कि पोशीदा ला-इलाह में है

वही जहाँ है तिरा जिस को तू करे पैदा
ये संग-ओ-ख़िश्त नहीं जो तिरी निगाह में है

मह ओ सितारा से आगे मक़ाम है जिस का
वो मुश्त-ए-ख़ाक अभी आवारगान-ए-राह में है

ख़बर मिली है ख़ुदायान-ए-बहर-ओ-बर से मुझे
फ़रंग रहगुज़र-ए-सैल-ए-बे-पनाह में है

तलाश उस की फ़ज़ाओं में कर नसीब अपना
जहान-ए-ताज़ा मिरी आह-ए-सुब्ह-गाह में है

मिरे कदू को ग़नीमत समझ कि बादा-ए-नाब
न मदरसे में है बाक़ी न ख़ानक़ाह में है

- Allama Iqbal
0 Likes

Qismat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading Qismat Shayari Shayari