Sahir Ludhianvi

Sahir Ludhianvi

वो अफ़्साना जिसे अंजाम तक लाना न हो मुमकिन
उसे इक ख़ूब-सूरत मोड़ दे कर छोड़ना अच्छा

  • Sher
  • Ghazal
  • Nazm

LOAD MORE

More Writers like Sahir Ludhianvi

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals