vo apne ghar chala gaya afsos mat karo | वो अपने घर चला गया अफ़्सोस मत करो - Bashir Badr

vo apne ghar chala gaya afsos mat karo
itna hi us ka saath tha afsos mat karo

insaan apne aap mein majboor hai bahut
koi nahin hai bewafa afsos mat karo

is baar tum ko aane mein kuchh der ho gai
thak-haar ke vo so gaya afsos mat karo

duniya mein aur chaahne waale bhi hain bahut
jo hona tha vo ho gaya afsos mat karo

is zindagi ke mujh pe kai qarz hain magar
main jald laut aaunga afsos mat karo

ye dekho phir se aa gaeein phoolon pe titliyan
ik roz vo bhi aayega afsos mat karo

vo tum se aaj door hai kal paas aayega
phir se khuda milaaega afsos mat karo

be-kaar jee pe bojh liye phir rahe ho tum
dil hai tumhaara phool sa afsos mat karo

वो अपने घर चला गया अफ़्सोस मत करो
इतना ही उस का साथ था अफ़्सोस मत करो

इंसान अपने आप में मजबूर है बहुत
कोई नहीं है बेवफ़ा अफ़्सोस मत करो

इस बार तुम को आने में कुछ देर हो गई
थक-हार के वो सो गया अफ़्सोस मत करो

दुनिया में और चाहने वाले भी हैं बहुत
जो होना था वो हो गया अफ़्सोस मत करो

इस ज़िंदगी के मुझ पे कई क़र्ज़ हैं मगर
मैं जल्द लौट आऊँगा अफ़्सोस मत करो

ये देखो फिर से आ गईं फूलों पे तितलियाँ
इक रोज़ वो भी आएगा अफ़्सोस मत करो

वो तुम से आज दूर है कल पास आएगा
फिर से ख़ुदा मिलाएगा अफ़्सोस मत करो

बे-कार जी पे बोझ लिए फिर रहे हो तुम
दिल है तुम्हारा फूल सा अफ़्सोस मत करो

- Bashir Badr
8 Likes

Breakup Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Breakup Shayari Shayari