pehle uski khushboo maine khud par taari ki | पहले उसकी खुशबू मैंने खुद पर तारी की - Tehzeeb Hafi

pehle uski khushboo maine khud par taari ki
phir maine us phool se milne ki taiyaari ki

itna dukh tha mujhko tere laut ke jaane ka
maine ghar ke darwaazon se bhi munh maari ki

पहले उसकी खुशबू मैंने खुद पर तारी की
फिर मैंने उस फूल से मिलने की तैयारी की

इतना दुख था मुझको तेरे लौट के जाने का
मैंने घर के दरवाजों से भी मुंह मारी की

- Tehzeeb Hafi
89 Likes

Basant Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Basant Shayari Shayari