hai shor sahilon par sailaab aa raha hai | है शोर साहिलों पर सैलाब आ रहा है - Farhat Ehsaas

hai shor sahilon par sailaab aa raha hai
aankhon ko ghark karne phir khwaab aa raha hai

bas ek jism de kar ruksat kiya tha us ne
aur ye kaha tha baaki asbaab aa raha hai

khaak-e-visaal kya kya soorat badal rahi hai
suraj guzar chuka hai mahtaab aa raha hai

paani ke aaine mein kya aankh pad gai hai
dariya mein kaisa kaisa girdaab aa raha hai

aankhon ki pyaaliyon mein baarish machi hui hai
sehra mein koi manzar shaadaab aa raha hai

है शोर साहिलों पर सैलाब आ रहा है
आँखों को ग़र्क़ करने फिर ख़्वाब आ रहा है

बस एक जिस्म दे कर रुख़्सत किया था उस ने
और ये कहा था बाक़ी अस्बाब आ रहा है

ख़ाक-ए-विसाल क्या क्या सूरत बदल रही है
सूरज गुज़र चुका है महताब आ रहा है

पानी के आइने में क्या आँख पड़ गई है
दरिया में कैसा कैसा गिर्दाब आ रहा है

आँखों की प्यालियों में बारिश मची हुई है
सहरा में कोई मंज़र शादाब आ रहा है

- Farhat Ehsaas
2 Likes

Dariya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Farhat Ehsaas

As you were reading Shayari by Farhat Ehsaas

Similar Writers

our suggestion based on Farhat Ehsaas

Similar Moods

As you were reading Dariya Shayari Shayari