dosti ka chalan raha hi nahin | दोस्ती का चलन रहा ही नहीं - Hafeez Jalandhari

dosti ka chalan raha hi nahin
ab zamaane ki vo hawa hi nahin

sach to ye hai sanam-kade waalo
dil khuda ne tumhein diya hi nahin

palat aane se ho gaya saabit
nama-bar tu wahan gaya hi nahin

haal ye hai ki ham ghareebon ka
haal tum ne kabhi suna hi nahin

kya chale zor dasht-e-vahshat ka
ham ne daaman kabhi siya hi nahin

gair bhi ek din marengay zaroor
un ke hisse mein kya qaza hi nahin

us ki soorat ko dekhta hoon main
meri seerat vo dekhta hi nahin

ishq mera hai shehar mein mashhoor
aur tum ne abhi suna hi nahin

qissa-e-qais sun ke farmaaya
jhooth ki koi intiha hi nahin

vaasta kis ka den hafiz un ko
un buton ka koi khuda hi nahin

दोस्ती का चलन रहा ही नहीं
अब ज़माने की वो हवा ही नहीं

सच तो ये है सनम-कदे वालो
दिल ख़ुदा ने तुम्हें दिया ही नहीं

पलट आने से हो गया साबित
नामा-बर तू वहाँ गया ही नहीं

हाल ये है कि हम ग़रीबों का
हाल तुम ने कभी सुना ही नहीं

क्या चले ज़ोर दश्त-ए-वहशत का
हम ने दामन कभी सिया ही नहीं

ग़ैर भी एक दिन मरेंगे ज़रूर
उन के हिस्से में क्या क़ज़ा ही नहीं

उस की सूरत को देखता हूँ मैं
मेरी सीरत वो देखता ही नहीं

इश्क़ मेरा है शहर में मशहूर
और तुम ने अभी सुना ही नहीं

क़िस्सा-ए-क़ैस सुन के फ़रमाया
झूट की कोई इंतिहा ही नहीं

वास्ता किस का दें 'हफ़ीज़' उन को
उन बुतों का कोई ख़ुदा ही नहीं

- Hafeez Jalandhari
1 Like

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Jalandhari

As you were reading Shayari by Hafeez Jalandhari

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Jalandhari

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari