nazar ki dhoop mein aane se pehle | नज़र की धूप में आने से पहले - Sarfraz Zahid

nazar ki dhoop mein aane se pehle
gulaabi tha vo sanvaane se pehle

suna hai koi deewaana yahan par
raha karta tha veeraane se pehle

khila karte the khwaabon mein kisi ke
tire takie pe murjhaane se pehle

mohabbat aam sa ik waqia tha
hamaare saath pesh aane se pehle

nazar aate the ham ik doosre ko
zamaane ko nazar aane se pehle

ta'ajjub hai ki is dharti pe kuchh log
jiya karte the mar jaane se pehle

raha karta tha apne zoom mein vo
hamaare dhyaan mein aane se pehle

muzayyan thi kisi ke khaal-o-khud se
hamaari shaam paimaane se pehle

नज़र की धूप में आने से पहले
गुलाबी था वो सँवलाने से पहले

सुना है कोई दीवाना यहाँ पर
रहा करता था वीराने से पहले

खिला करते थे ख़्वाबों में किसी के
तिरे तकिए पे मुरझाने से पहले

मोहब्बत आम सा इक वाक़िआ था
हमारे साथ पेश आने से पहले

नज़र आते थे हम इक दूसरे को
ज़माने को नज़र आने से पहले

तअज्जुब है कि इस धरती पे कुछ लोग
जिया करते थे मर जाने से पहले

रहा करता था अपने ज़ोम में वो
हमारे ध्यान में आने से पहले

मुज़य्यन थी किसी के ख़ाल-ओ-ख़द से
हमारी शाम पैमाने से पहले

- Sarfraz Zahid
1 Like

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sarfraz Zahid

As you were reading Shayari by Sarfraz Zahid

Similar Writers

our suggestion based on Sarfraz Zahid

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari