zahar-e-gham khoob piya ham ne sharaabon se bache | ज़हर-ए-ग़म ख़ूब पिया हम ने शराबों से बचे - Shakeel Gwaliari

zahar-e-gham khoob piya ham ne sharaabon se bache
jhel kar kitne azaabon ko azaabon se bache

sochne baitheen to soche hi chale jaate hain
khauf kaanton ka ajab tha ki gulaabon se bache

kitne ma'soom the chehre nahin dekhe tum ne
vo jo rah kar bhi naqaabon mein naqaabon se bache

jaagta ho to na dekhe koi mahlon ki taraf
kis tarah soya hua aadmi khwaabon se bache

is hikaayat mein koi jhooth na kar de shaamil
is mein sacchaai agar hai to kitaabon se bache

kaash ult de koi sehra mein samundar la kar
qaafila doob hi jaaye to saraabo se bache

ज़हर-ए-ग़म ख़ूब पिया हम ने शराबों से बचे
झेल कर कितने अज़ाबों को अज़ाबों से बचे

सोचने बैठें तो सोचे ही चले जाते हैं
ख़ौफ़ काँटों का अजब था कि गुलाबों से बचे

कितने मा'सूम थे चेहरे नहीं देखे तुम ने
वो जो रह कर भी नक़ाबों में नक़ाबों से बचे

जागता हो तो न देखे कोई महलों की तरफ़
किस तरह सोया हुआ आदमी ख़्वाबों से बचे

इस हिकायत में कोई झूट न कर दे शामिल
इस में सच्चाई अगर है तो किताबों से बचे

काश उलट दे कोई सहरा में समुंदर ला कर
क़ाफ़िला डूब ही जाए तो सराबों से बचे

- Shakeel Gwaliari
1 Like

Jhooth Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shakeel Gwaliari

As you were reading Shayari by Shakeel Gwaliari

Similar Writers

our suggestion based on Shakeel Gwaliari

Similar Moods

As you were reading Jhooth Shayari Shayari