ye mili e'tibaar ki qeemat | ये मिली ए'तिबार की क़ीमत - Vivek Bijnori

ye mili e'tibaar ki qeemat
lag gai mere pyaar ki qeemat

mujh se ik jang jeetni thi use
so lagi meri haar ki qeemat

ham ko ik phool tak naseeb nahin
ham se poocho bahaar ki qeemat

aap ko pyaar mil gaya apna
aap kya jaano pyaar ki qeemat

aa ke baahon mein bhar liya us ne
mil gai intizaar ki qeemat

ये मिली ए'तिबार की क़ीमत
लग गई मेरे प्यार की क़ीमत

मुझ से इक जंग जीतनी थी उसे
सो लगी मेरी हार की क़ीमत

हम को इक फूल तक नसीब नहीं
हम से पूछो बहार की क़ीमत

आप को प्यार मिल गया अपना
आप क्या जानो प्यार की क़ीमत

आ के बाहोँ में भर लिया उस ने
मिल गई इंतिज़ार की क़ीमत

- Vivek Bijnori
0 Likes

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vivek Bijnori

As you were reading Shayari by Vivek Bijnori

Similar Writers

our suggestion based on Vivek Bijnori

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari