agar main sach kahoon aisa tha pehle | अगर मैं सच कहूँ ऐसा था पहले - Vivek Bijnori

agar main sach kahoon aisa tha pehle
wahi rab tha wahi duniya tha pehle

mujhe kyun gair jaisa lag raha hai
wahi ik shakhs jo mera tha pehle

jo meri jaan ka dushman bana hai
mujhe vo jaan hi kehta tha pehle

meri aankhon ke andar mar gaya hai
wahi ik khwaab jo zinda tha pehle

ye jo khaamosh sa ik aadmi hai
bada shaitaan sa baccha tha pehle

vo jis ko aap patthar kah rahe hain
haqeeqat mein wahi toota tha pehle

ye jo sookhi hui aankhen hain meri
yahan ashkon ka ik dariya tha pehle

lagaaee hai syaahi deepakon ne
mera kamra bada ujla tha pehle

ye mera haal jo hai ishq se hai
haan main sach mein bahut achha tha pehle

अगर मैं सच कहूँ ऐसा था पहले
वही रब था वही दुनिया था पहले

मुझे क्यों ग़ैर जैसा लग रहा है
वही इक शख़्स जो मेरा था पहले

जो मेरी जान का दुश्मन बना है
मुझे वो जान ही कहता था पहले

मिरी आँखों के अंदर मर गया है
वही इक ख़्वाब जो ज़िंदा था पहले

ये जो ख़ामोश सा इक आदमी है
बड़ा शैतान सा बच्चा था पहले

वो जिस को आप पत्थर कह रहे हैं
हक़ीक़त में वही टूटा था पहले

ये जो सूखी हुई आँखें हैं मेरी
यहाँ अश्कों का इक दरिया था पहले

लगाई है स्याही दीपकों ने
मिरा कमरा बड़ा उजला था पहले

ये मेरा हाल जो है इश्क़ से है
हाँ मैं सच में बहुत अच्छा था पहले

- Vivek Bijnori
1 Like

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vivek Bijnori

As you were reading Shayari by Vivek Bijnori

Similar Writers

our suggestion based on Vivek Bijnori

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari