abhi suroor-e-jaam hai to hosh hai qaraar hai | अभी सुरूर-ए-जाम है तो होश है क़रार है - Vivek Bijnori

abhi suroor-e-jaam hai to hosh hai qaraar hai
ye vahshaton ka daur hai na ishq hai na pyaar hai

vo laut aayega agar udaan khatm ho gai
abhi to aasmaan mein hai abhi to dhun sawaar hai

bhatk rahi hai rooh kyun kabhi nahin laga tumhein
chukaana baaki rah gaya jo jism ka udhaar hai

lo mil gaya na khaak mein ye hashr hai shareer ka
vo chaar eenten dekh lo vo meri hi mazaar hai

use kaha bhi jaaye kya abhi nahin sunega vo
naya naya sa shauq hai naya naya sa pyaar hai

अभी सुरूर-ए-जाम है तो होश है क़रार है
ये वहशतों का दौर है न इश्क़ है न प्यार है

वो लौट आएगा अगर उड़ान ख़त्म हो गई
अभी तो आसमाँ में है अभी तो धुन सवार है

भटक रही है रूह क्यों कभी नहीं लगा तुम्हें
चुकाना बाक़ी रह गया जो जिस्म का उधार है

लो मिल गया न ख़ाक में ये हश्र है शरीर का
वो चार ईंटें देख लो वो मेरी ही मज़ार है

उसे कहा भी जाए क्या अभी नहीं सुनेगा वो
नया नया सा शौक़ है नया नया सा प्यार है

- Vivek Bijnori
0 Likes

Aasman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vivek Bijnori

As you were reading Shayari by Vivek Bijnori

Similar Writers

our suggestion based on Vivek Bijnori

Similar Moods

As you were reading Aasman Shayari Shayari