jab tire nain muskuraate hain | जब तिरे नैन मुस्कुराते हैं - Abdul Hamid Adam

jab tire nain muskuraate hain
zeest ke ranj bhool jaate hain

kyun shikan daalte ho maathe par
bhool kar aa gaye hain jaate hain

kashtiyaan yun bhi doob jaati hain
nakhuda kis liye daraate hain

ik haseen aankh ke ishaare par
qafile raah bhool jaate hain

जब तिरे नैन मुस्कुराते हैं
ज़ीस्त के रंज भूल जाते हैं

क्यूँ शिकन डालते हो माथे पर
भूल कर आ गए हैं जाते हैं

कश्तियाँ यूँ भी डूब जाती हैं
नाख़ुदा किस लिए डराते हैं

इक हसीं आँख के इशारे पर
क़ाफ़िले राह भूल जाते हैं

- Abdul Hamid Adam
4 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abdul Hamid Adam

As you were reading Shayari by Abdul Hamid Adam

Similar Writers

our suggestion based on Abdul Hamid Adam

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari