koi khushi na koi ranj mustaqil hoga | कोई ख़ुशी न कोई रंज मुस्तक़िल होगा - Ameer Imam

koi khushi na koi ranj mustaqil hoga
fana ke rang se har rang muttasil hoga

ajab hai ishq ajab-tar hain khwaahishein is ki
kabhi kabhi to bichhadne talak ko dil hoga

badan mein ho to gila kya tamaash-beeni ka
yahan to roz tamaasha-e-aab-o-gil hoga

abhi to aur bhi chehre tumhein pukaarenge
abhi vo aur bhi chehron mein muntaqil hoga

ziyaan mazid hai asbaab dhundhte rahna
hua hai jo vo na hone pe mushtamil hoga

tamaam-raat bhatkata fira hai sadkon par
hui hai subh abhi shehar muzmahil hoga

कोई ख़ुशी न कोई रंज मुस्तक़िल होगा
फ़ना के रंग से हर रंग मुत्तसिल होगा

अजब है इश्क़ अजब-तर हैं ख़्वाहिशें इस की
कभी कभी तो बिछड़ने तलक को दिल होगा

बदन में हो तो गिला क्या तमाश-बीनी का
यहाँ तो रोज़ तमाशा-ए-आब-ओ-गिल होगा

अभी तो और भी चेहरे तुम्हें पुकारेंगे
अभी वो और भी चेहरों में मुंतक़िल होगा

ज़ियाँ मज़ीद है अस्बाब ढूँढते रहना
हुआ है जो वो न होने पे मुश्तमिल होगा

तमाम-रात भटकता फिरा है सड़कों पर
हुई है सुब्ह अभी शहर मुज़्महिल होगा

- Ameer Imam
2 Likes

Diversity Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Imam

As you were reading Shayari by Ameer Imam

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Imam

Similar Moods

As you were reading Diversity Shayari Shayari