qudrat ne kitne rang milaayein hain saath saath | कुदरत ने कितने रंग मिलाएँ हैं साथ साथ - Divy Kamaldhwaj

qudrat ne kitne rang milaayein hain saath saath
gulshan ke fool aise banaayein hain saath saath

keval jale nahin hain vo panne kitaab ke
nafrat ne phool bhi to jalaaen hain saath saath

ye kaam mahz aag kabhi kar na paayegi
sabko pata hi hai ke hawaaein hain saath saath

ye baat aur hai ki vo rishta nahin bacha
varna bahut se raaz chhupaayein hain saath saath

कुदरत ने कितने रंग मिलाएँ हैं साथ साथ
गुलशन के फ़ूल ऐसे बनाएँ हैं साथ साथ

केवल जले नहीं हैं वो पन्ने क़िताब के
नफरत ने फूल भी तो जलाएँ हैं साथ साथ

ये काम महज़ आग कभी कर न पाएगी
सबको पता ही है के हवाएँ हैं साथ साथ

ये बात और है कि वो रिश्ता नहीं बचा
वरना बहुत से राज़ छुपाएँ हैं साथ साथ

- Divy Kamaldhwaj
2 Likes

Baaten Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Divy Kamaldhwaj

As you were reading Shayari by Divy Kamaldhwaj

Similar Writers

our suggestion based on Divy Kamaldhwaj

Similar Moods

As you were reading Baaten Shayari Shayari