zehn mein ik musalsal rakh hai | ज़हन में इक मुसलसल मर्सिया है - Gagan Bajad 'Aafat'

zehn mein ik musalsal rakh hai
mujhe tha ishq jisse ja chuka hai

yaqeenan main to usko kho chuka hoon
magar daava hai ke vo kho raha hai

jise patthar samajh ke fenk baithe
samajh aaya asal mein devta hai

safar mein main jise chalte mila tha
mujhe afsos hai vo ruk gaya hai

main jisko butkade mein chhod aaya
khabar aayi hai vo asli khuda hai

khuda ko maulvi ne kal tha toka
khuda ka bolna bilkul manaa hai

mere is ghar mein apnaapan nahin hai
yahan ik ped tha jo gir gaya hai

bure haalaat hai par yaar ab bhi
gale milta hai sehat poochta hai

sadaqat hamko khaaye ja rahi hai
muhabbat hai nahin ye bolna hai

tujhe mujh par taras aata nahin kya
main kaafir hoon magar tu to khuda hai

yakeen kaise karoon teri zubaan pe
tu waiz hai to sach kyun bolta hai

muhabbat uspe hi khulti nahin hai
ajee jo yaar hai chikna ghada hai

safar par bhej basta paik kar de
tere bacche ko chalna aa gaya hai

muhabbat maine tujhse ki bahut hai
magar kehta nahin tujhko pata hai

hamaara haal vo bhi jaante hain
zehn mein bas yahi ek mas'ala hai

na jaane kya vo mujh mein kho chuka hai
na jaane kya vo mujh mein dhoondhta hai

kahaan hai vo samajh aata nahin hai
kahaan hoon main vo mujhse poochta hai

koi batlaaye ke sharmaaye kitna
vo mujhko paharon paharon dekhta hai

tu mera sab hai jab tujhko khabar ho
chale aana ke dar tab tak khula hai

tere jaane se gham to aa gaya par
muhabbat se ye dil ab bhi bhara hai

bina bole main sabka ho gaya hoon
zara paagal hoon main sabko pata hai

jo akshar sochta tha poochta hoon
khuda ho kar ke tujhko kya mila hai

badi aafat mein hai ham tere ho kar
main darta hoon tu mera ho gaya hai

ज़हन में इक मुसलसल मर्सिया है
मुझे था इश्क़ जिससे जा चुका है

यक़ीनन मैं तो उसको खो चुका हूँ
मगर दावा है के वो खो रहा है

जिसे पत्थर समझ के फेंक बैठे
समझ आया असल में देवता है

सफ़र में मैं जिसे चलते मिला था
मुझे अफ़सोस है वो रुक गया है

मैं जिसको बुतकदे में छोड़ आया
ख़बर आई है वो असली ख़ुदा है

ख़ुदा को मौलवी ने कल था टोका
ख़ुदा का बोलना बिल्कुल मना है

मेरे इस घर में अपनापन नहीं है
यहाँ इक पेड़ था जो गिर गया है

बुरे हालात है पर यार अब भी
गले मिलता है, सेहत पूछता है

सदाक़त हमको खाए जा रही है
मुहब्बत है नहीं ये बोलना है

तुझे मुझ पर तरस आता नहीं क्या
मैं काफ़िर हूँ मगर तू तो ख़ुदा है

यकीं कैसे करूँ तेरी जुबां पे
तू वाइज़ है तो सच क्यूँ बोलता है

मुहब्बत उसपे ही खुलती नहीं है
अजी जो यार है चिकना घड़ा है

सफ़र पर भेज बस्ता पैक कर दे
तेरे बच्चे को चलना आ गया है

मुहब्बत मैंने तुझसे की बहुत है
मगर कहता नहीं तुझको पता है

हमारा हाल वो भी जानते हैं
ज़हन में बस यही एक मसअला है

न जाने क्या वो मुझ में खो चुका है
न जाने क्या वो मुझ में ढूँढता है

कहाँ है वो समझ आता नहीं है
कहाँ हूँ मैं वो मुझसे पूछता है

कोई बतलाए के शर्माए कितना
वो मुझको पहरों पहरों देखता है

तू मेरा सब है जब तुझको ख़बर हो
चले आना के दर तब तक खुला है

तेरे जाने से ग़म तो आ गया पर
मुहब्बत से ये दिल अब भी भरा है

बिना बोले मैं सबका हो गया हूँ
ज़रा पागल हूँ मैं सबको पता है

जो अक्सर सोचता था पूछता हूँ
ख़ुदा हो कर के तुझको क्या मिला है

बड़ी आफ़त में है हम तेरे हो कर
मैं डरता हूँ तू मेरा हो गया है

- Gagan Bajad 'Aafat'
1 Like

Ehsaas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gagan Bajad 'Aafat'

As you were reading Shayari by Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Writers

our suggestion based on Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Moods

As you were reading Ehsaas Shayari Shayari