maanjhi agarche yaad hai to jaaniye ke din gaye | मांझी अगरचे याद है तो जानिए के दिन गए - Gagan Bajad 'Aafat'

maanjhi agarche yaad hai to jaaniye ke din gaye
jab aaj mustaqbil lage to poochiye ke din gaye

sabse mile milte rahe sabne kaha ham yaar hain
tumne kaha ustaad hai tab haashie ke din gaye

jo shayari ke naam par cheekha kiye saari umar
vo ja chuke hain aap dheere boliye ke din gaye

tumko junoon ke naam par laaya gaya hai jang mein
tum ko sukoon darkaar hai to roie ke din gaye

ye chh pahar ka kaam hai kuchh do pahar aaraam hai
ye ishq sabse na ho saka sab ro diye ke din gaye

ab jaahilon se ishq ki kar li khata to ye karein
ab sar dhunen ab roiye sar phodiye ke din gaye

jab naukri tak aa chuke kitna bura sauda kiya
ab jee bajaate aaiye ye boliye ke din gaye

tumne kiye jo ishq mein vaade sabhi poore kiye
ab raabta bekar hai ye jaaniye ke din gaye

pehle pehal lagta tha ye ke kaafiya kya khoob hai
jab khud ghazal ham ho gaye har kaafiye ke din gaye

ham aapke beemaar the har baat par taiyaar the
kuchh tha vaham bhi ishq ka ab chhodiye ke din gaye

itna junoon tha jism mein duniya jala sakte the ham
sab kuchh khuda ka shukr hai aur kislie ke din gaye

gar ishq tumko lag raha tha qaid phir to jaaiye
ab chat gai sar se sanam par kholie ke din gaye

ham aafaton mein mubtala kaafir bhi ham ham hi khuda
karne ko baaki hai bahut mat sochie ke din gaye

मांझी अगरचे याद है तो जानिए के दिन गए
जब आज मुस्तक़बिल लगे तो पूछिए के दिन गए?

सबसे मिले मिलते रहे, सबने कहा हम यार हैं
तुमने कहा उस्ताद है, तब हाशिए के दिन गए

जो शायरी के नाम पर चीखा किए सारी उमर
वो जा चुके हैं, आप धीरे बोलिए, के दिन गए

तुमको जुनूँ के नाम पर लाया गया है जंग में
तुम को सुकूँ दरकार है तो रोईए के दिन गए

ये छह पहर का काम है कुछ दो पहर आराम है
ये इश्क़ सबसे न हो सका सब रो दिए के दिन गए

अब जाहिलों से इश्क़ की, कर ली ख़ता तो ये करें
अब सर धुनें, अब रोइये, सर फोड़िए, के दिन गए

जब नौकरी तक आ चुके, कितना बुरा सौदा किया
अब जी बजाते आइए, ये बोलिए के दिन गए

तुमने किये जो इश्क में वादे सभी पूरे किये
अब राब्ता बेकार है ये जानिए के दिन गए

पहले पहल लगता था ये के काफ़िया क्या ख़ूब है
जब ख़ुद ग़ज़ल हम हो गए हर काफ़िये के दिन गए

हम आपके बीमार थे हर बात पर तैयार थे
कुछ था वहम भी इश्क़ का, अब छोड़िए के दिन गए

इतना जुनूँ था जिस्म में दुनिया जला सकते थे हम
सब कुछ ख़ुदा का शुक्र है, और किसलिए के दिन गए

गर इश्क़ तुमको लग रहा था क़ैद फिर तो जाइये
अब छत गई सर से सनम पर खोलिए के दिन गए

हम आफ़तों में मुब्तला काफ़िर भी हम, हम ही ख़ुदा
करने को बाक़ी है बहुत, मत सोचिए के दिन गए

- Gagan Bajad 'Aafat'
0 Likes

Dushmani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gagan Bajad 'Aafat'

As you were reading Shayari by Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Writers

our suggestion based on Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Moods

As you were reading Dushmani Shayari Shayari