jab bacchon ko ilm padaaya ja saka hai | जब बच्चों को इल्म पढ़ाया जा सकता है - Gagan Bajad 'Aafat'

jab bacchon ko ilm padaaya ja saka hai
phir to unko pyaar sikhaaya ja saka hai

ishq ibadat hai itni si baat sikha kar
har paagal dil ko bahlāya ja saka hai

dil ki sarhad tod teri baahon mein aakar
ham ro dete lekin sustaaya ja saka hai

qudrat ke saaye ki rahmat bhool chuke hain
ye haalat hai sar se saaya ja saka hai

do roti ki bhookh hai mujhko utna kha luun
ab lagta hai mulk bachaaya ja saka hai

dil mein aane ka raasta to seedha hi hai
gar in baanhon ko failaaya ja saka hai

chhod humi ko sabse dil ka haal kaho mat
hamko dil ka haal sunaaya ja saka hai

gharwaale jab tumko sab samjha sakte hai
ghar waalon ko bhi samjhaaya ja saka hai

ishq ajal hai jisne jaana unse poocho
marne tak to jism sajaaya ja saka hai

kaafir ko kaafir kehne mein hujjat kaisi
maula ko kaafir thehraaya ja saka tha

mushkil waqt ne sikhaaye hain khoob sabak bhi
do roti se kaam chalaaya ja saka hai

patthar fenko patthar pujo patthar gadh lo
patthar ko har kaam mein laaya ja saka hai

inko samjhaane ki khaatir aa mat jaana
eesa tujhko phir latkaaya ja saka hai

bacche boodhe roz jhagdate hain duniya mein
bacchon ka jhagda suljhaaya ja saka hai

hamne raanjhe se maajhi tak seekha ye hai
deewaanon ko kaam bataaya ja saka hai

qudrat ke barson ka haasil hai ye insa
aur khuda to roz banaya ja saka hai

kisko kitna yaad rakhoge tay karna hai
kiska kitna gham dohraaya ja saka hai

ab main itna soch raha hoon paagal hi hoon
paagal se deewaan likhaaya ja saka hai

mere dil pe haath rakha phir poocha usne
iska kitna daam lagaaya ja saka hai

aafat hai ki mujhko sabka hashr pata hai
khair jalaya ya dafnaya ja saka hai

mazhab ke vaade jhoothe bhi ho sakte hain
mazhab ka eimaan giraaya ja saka hai

kad ghar ke bacchon ka jab badhne lag jaaye
deewaron ko aur uthaya ja saka hai

pehle socho ped bachaayenge ham kaise
tab mumkin hai shehar bachaaya ja saka hai

ham dil par dastak de aise jaahil nahin hai
dil ko to chupchaap churaaya ja saka hai

mandir o masjid par dastak dene waale
maula ko to khud mein paaya ja saka hai

sach ki soorat saadi hokar bhi achhi hai
jhooth ko to kuchh bhi pahnaaya ja saka hai

yaar khushi gar khud dhundooge to paoge
gham ko to sabse dilwaaya ja saka hai

mandir o masjid ki qaid buri hai waiz
maula ko ye sach batlaaya ja saka hai

vo mehfil mein phir bulwa saka hai tujhko
mehfil se jaana bhi zaaya ja saka hai

जब बच्चों को इल्म पढ़ाया जा सकता है
फिर तो उनको प्यार सिखाया जा सकता है

इश्क़ इबादत है इतनी सी बात सिखा कर
हर पागल दिल को बहलाया जा सकता है

दिल की सरहद तोड़ तेरी बाहों में आकर
हम रो देते लेकिन सुस्ताया जा सकता है

क़ुदरत के साए की रहमत भूल चुके हैं
ये हालत है सर से साया जा सकता है

दो रोटी की भूख है मुझको उतना खा लूँ
अब लगता है मुल्क बचाया जा सकता है

दिल में आने का रास्ता तो सीधा ही है
गर इन बाँहों को फैलाया जा सकता है

छोड़ हमी को सबसे दिल का हाल कहो मत
हमको दिल का हाल सुनाया जा सकता है

घरवाले जब तुमको सब समझा सकते है
घर वालों को भी समझाया जा सकता है

इश्क़ अजल है जिसने जाना उनसे पूछो
मरने तक तो जिस्म सजाया जा सकता है

काफ़िर को काफ़िर कहने में हुज्जत कैसी
मौला को काफ़िर ठहराया जा सकता था

मुश्किल वक़्त ने सिखलाए हैं ख़ूब सबक भी
दो रोटी से काम चलाया जा सकता है

पत्थर फेंको, पत्थर पूजो, पत्थर गढ़ लो
पत्थर को हर काम में लाया जा सकता है

इनको समझाने की ख़ातिर आ मत जाना
ईसा तुझको फिर लटकाया जा सकता है

बच्चे बूढ़े रोज झगड़ते हैं दुनिया में
बच्चों का झगड़ा सुलझाया जा सकता है

हमने रांझे से माझी तक सीखा ये है
दीवानों को काम बताया जा सकता है

क़ुदरत के बरसों का हासिल है ये इंसा
और ख़ुदा तो रोज़ बनाया जा सकता है

किसको कितना याद रखोगे तय करना है
किसका कितना ग़म दोहराया जा सकता है

अब मैं इतना सोच रहा हूँ पागल ही हूँ!
पागल से दीवान लिखाया जा सकता है

मेरे दिल पे हाथ रखा फिर पूछा उसने
इसका कितना दाम लगाया जा सकता है

आफ़त है कि मुझको सबका हश्र पता है
ख़ैर जलाया या दफनाया जा सकता है

मज़हब के वादे झूठे भी हो सकते हैं
मज़हब का ईमान गिराया जा सकता है

कद घर के बच्चों का जब बढ़ने लग जाए
दीवारों को और उठाया जा सकता है

पहले सोचो पेड़ बचाएंगे हम कैसे
तब मुमकिन है शहर बचाया जा सकता है

हम दिल पर दस्तक दे ऐसे जाहिल नहीं है
दिल को तो चुपचाप चुराया जा सकता है

मंदिर ओ मस्जिद पर दस्तक देने वाले
मौला को तो ख़ुद में पाया जा सकता है

सच की सूरत सादी होकर भी अच्छी है
झूठ को तो कुछ भी पहनाया जा सकता है

यार ख़ुशी गर खुद ढूँढोगे तो पाओगे
ग़म को तो सबसे दिलवाया जा सकता है

मंदिर ओ मस्जिद की क़ैद बुरी है वाइज़
मौला को ये सच बतलाया जा सकता है

वो महफ़िल में फिर बुलवा सकता है तुझको
महफ़िल से जाना भी ज़ाया जा सकता है

- Gagan Bajad 'Aafat'
7 Likes

Baaten Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gagan Bajad 'Aafat'

As you were reading Shayari by Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Writers

our suggestion based on Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Moods

As you were reading Baaten Shayari Shayari