hamaare dil ko ham samjha rahe hain | हमारे दिल को हम समझा रहे हैं - Gagan Bajad 'Aafat'

hamaare dil ko ham samjha rahe hain
khushi ke baad dukh bhi aa rahe hain

hamein hairat nahin kaali zubaan hai
vo aaye hain vo waapas ja rahe hain

mohabbat se hamein bas ye gila hai
bichhadte waqt ham zinda rahe hain

rakeeboon se khabar jhoothi mili hai
hamaare baad vo pachta rahe hain

mile qismat se hai to dhyaan rakh le
wagarana kis pe ham aasaan rahe hain

koi pooche ke the tere deewane
main kah doonga yahi jee haan rahe hain

khaton ke saath dil aaya nahin hain
suna to tha vo sab lautaa rahe hain

हमारे दिल को हम समझा रहे हैं
ख़ुशी के बाद दुख भी आ रहे हैं

हमें हैरत नहीं काली ज़ुबाँ है
वो आए हैं वो वापस जा रहे हैं

मोहब्बत से हमें बस ये गिला है
बिछड़ते वक़्त हम ज़िंदा रहे हैं

रकीबों से खबर झूठी मिली है
हमारे बाद वो पछता रहे हैं

मिले क़िस्मत से है तो ध्यान रख ले
वगरना किस पे हम आसां रहे हैं

कोई पूछे के थे तेरे दीवाने?
मैं कह दूंगा यही जी हां रहे हैं

ख़तों के साथ दिल आया नहीं हैं
सुना तो था वो सब लौटा रहे हैं

- Gagan Bajad 'Aafat'
2 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gagan Bajad 'Aafat'

As you were reading Shayari by Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Writers

our suggestion based on Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari