sitam to zindagi dohraa rahi hai | सितम तो ज़िंदगी दोहरा रही है - Gagan Bajad 'Aafat'

sitam to zindagi dohraa rahi hai
khatao ko sahi thehra rahi hai

main rakhna chahta hoon paanv andar
meri chadar simatti ja rahi hai

vaba se ped panchi saare khush hain
kisi ko to tabaahi bha rahi hai

batao to tumhein kyun na jagaayen
tumhaari neend aankhen kha rahi hai

ajee tabiyat sudhar ke hi rahegi
dava le lo dava samjha rahi hai

revision chal raha hai zindagi ka
palat do faisale samjha rahi hai

ye rishton mein daraaren dik rahi hain
daraaron me diwaaren aa rahi hain

vo kahti hai use main bhool jaaun
jo meri zeest ka hissa rahi hai

milaakar unse phir tarsa rahi hai
hamaari umr ko badhwa rahi hai

सितम तो ज़िंदगी दोहरा रही है
ख़ताओ को सही ठहरा रही है

मैं रखना चाहता हूँ पाँव अंदर
मेरी चादर सिमटती जा रही है

वबा से पेड़ पंछी सारे खुश हैं
किसी को तो तबाही भा रही है

बताओ तो तुम्हें क्यूँ ना जगाएं
तुम्हारी नींद आँखें खा रही है

अजी तबीयत सुधर के ही रहेगी
दवा ले लो दवा समझा रही है

रिवीजन चल रहा है ज़िन्दगी का
पलट दो फैसले समझा रही है

ये रिश्तों में दरारें दिख रही हैं
दरारों मे दिवारें आ रही हैं

वो कहती है उसे मैं भूल जाऊँ
जो मेरी ज़ीस्त का हिस्सा रही है

मिलाकर उनसे फिर तरसा रही है
हमारी उम्र को बढ़वा रही है

- Gagan Bajad 'Aafat'
3 Likes

Zakhm Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gagan Bajad 'Aafat'

As you were reading Shayari by Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Writers

our suggestion based on Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Moods

As you were reading Zakhm Shayari Shayari