insaan ko hi aql ye aana to hai nahin | इंसान को ही अक़्ल ये आना तो है नहीं - Gagan Bajad 'Aafat'

insaan ko hi aql ye aana to hai nahin
dharti ke hi alaava thikaana to hai nahin

kis munh se hawa maangte ho kaaynaat se
jab junglon ko tumko bachaana to hai nahin

bhar lo silendron mein jahaan bhar ki oxygen
tumko magar darakht lagana to hai nahin

insaan ko kya ye laga vo ho chuka khuda
is be-haya ko zaat se jaana to hai nahin

barase na kyun azaab bashar hi pe hai khabar
qudrat se bas ise hi nibhaana to hai nahin

maalik nahin hai baawre rakhna hi kyun akad
mehmaan hai par aapne maana to hai nahin

ab kaam dhaam dhundhe shagal hai tere bashar
qudrat ko aapse jee kamaana to hai nahin

इंसान को ही अक़्ल ये आना तो है नहीं
धरती के ही अलावा ठिकाना तो है नहीं

किस मुंह से हवा माँगते हो कायनात से
जब जंगलों को तुमको बचाना तो है नहीं

भर लो सिलेंडरों में जहाँ भर की ऑक्सीजन
तुमको मगर दरख़्त लगाना तो है नहीं

इंसान को क्या ये लगा वो हो चुका ख़ुदा
इस बे-हया को ज़ात से जाना तो है नहीं

बरसे ना क्यूँ अज़ाब बशर ही पे है ख़बर
क़ुदरत से बस इसे ही निभाना तो है नहीं

मालिक नहीं है बावरे रखना ही क्यूँ अकड़
मेहमान है पर आपने माना तो है नहीं

अब काम धाम धंधे शगल है तेरे बशर
क़ुदरत को आपसे जी कमाना तो है नहीं

- Gagan Bajad 'Aafat'
2 Likes

Ghamand Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gagan Bajad 'Aafat'

As you were reading Shayari by Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Writers

our suggestion based on Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Moods

As you were reading Ghamand Shayari Shayari