jab sahi shayari se milte hain | जब सही शायरी से मिलते हैं - Gagan Bajad 'Aafat'

jab sahi shayari se milte hain
ek manzar kashi se milte hain

apna pesha hai roz milne ka
roz neki badi se milte hain

usne aise salaam bheje hain
jo hamein ajnabi se milte hain

aur vo hamse hi nahin milte
yaar vo har kisi se milte hain

ab khudaon se tark karke sab
aaiye aadmi se milte hain

ham bade log ho nahin sakte
ham sabhi se sahi se milte hain

roz daftar bhale nahin jaate
par tujhe haazri se milte hain

jab jahaan jaaye roshni kar de
jabki vo saadgi se milte hain

khoob milte hain band palkon se
aur bechehargi se milte hain

aap tanhaaiyon mein miliega
aap tishna labi se milte hai

rang saare jo kaaynaat ke hai
aapki odhni se milte hain

ham use bhej bhi nahin paaye
aaj khat diary se milte hai

jab se ye aa gaya hai qaateel par
le ke dil ham chhuri se milte hai

hai vo rootha to usko jaane de
hamse mil ham khushi se milte hai

जब सही शायरी से मिलते हैं
एक मंजर कशी से मिलते हैं

अपना पेशा है रोज मिलने का
रोज नेकी बदी से मिलते हैं

उसने ऐसे सलाम भेजे हैं
जो हमें अजनबी से मिलते हैं

और वो हमसे ही नहीं मिलते
यार वो हर किसी से मिलते हैं

अब खुदाओं से तर्क करके सब
आइए आदमी से मिलते हैं

हम बड़े लोग हो नहीं सकते
हम सभी से सही से मिलते हैं

रोज दफ्तर भले नहीं जाते
पर तुझे हाजरी से मिलते हैं

जब जहां जाए रोशनी कर दे
जबकि वो सादगी से मिलते हैं

खूब मिलते हैं बंद पलकों से
और बेचेहरगी से मिलते हैं

आप तन्हाइयों में मिलिएगा
आप तिश्ना लबी से मिलते है

रंग सारे जो कायनात के है
आपकी ओढ़नी से मिलते हैं

हम उसे भेज भी नहीं पाए
आज ख़त डायरी से मिलते है

जब से ये आ गया है क़ातिल पर
ले के दिल हम छुरी से मिलते है

है वो रूठा तो उसको जाने दे
हमसे मिल हम ख़ुशी से मिलते है

- Gagan Bajad 'Aafat'
2 Likes

Diversity Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gagan Bajad 'Aafat'

As you were reading Shayari by Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Writers

our suggestion based on Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Moods

As you were reading Diversity Shayari Shayari