pareshaani kabhi apni ya begaani se mar jaayen | परेशानी कभी अपनी या बेगानी से मर जाएँ - Gagan Bajad 'Aafat'

pareshaani kabhi apni ya begaani se mar jaayen
use hai chaah ke ham log aasaani se mar jaayen

tujhi ko maat doon to haal mera us ghazal sa ho
ula jiska sahi misra galat saani se mar jaayen

kahaan hamse gaya qurbaaniyaan jannat dilaati hain
tabhi hamne kahaan ye aap qurbaani se mar jaayen

main jaise rab se milta hoon main vaise sab se milta hoon
meri khwaahish hai ke sab log hairaani se mar jaayen

agar jo ishq mein ho tum saleeke se milo hamse
na ho aisa ki teri talkh be-dhyaani se mar jaayen

sabhi ko husn ke dam par mutaasir karne waale sun
kahi aisa na ho sab meherbaani se mar jaayen

bada naadaan hai tu jo khuda naadaan ka bhi hai
bhala ismein hi hai tera tu nadaani se mar jaayen

khuda ne jo bhala rakha bure ke bhes mein rakha
tamasha tay raha duniya ye manmaani se mar jaayen

jahaan bhar mein khuda ko dhoondhna jo ke khudi mein hai
ki har pyaasa yahan paani ki nigraani se mar jaayen

mujhe kuchh bhi naya lagta nahin hai ye bhi aafat hai
bimaari tum nayi doge ke puraani se mar jaayen

परेशानी कभी अपनी या बेगानी से मर जाएँ
उसे है चाह के हम लोग आसानी से मर जाएँ

तुझी को मात दूँ तो हाल मेरा उस ग़ज़ल सा हो
उला जिसका सही मिसरा ग़लत सानी से मर जाएँ

कहाँ हमसे गया क़ुर्बानियाँ जन्नत दिलाती हैं
तभी हमने कहाँ ये आप क़ुर्बानी से मर जाएँ

मैं जैसे रब से मिलता हूँ मैं वैसे सब से मिलता हूँ
मेरी ख़्वाहिश है के सब लोग हैरानी से मर जाएँ

अगर जो इश्क़ में हो तुम सलीके से मिलो हमसे
न हो ऐसा कि तेरी तल्ख़ बे-ध्यानी से मर जाएँ

सभी को हुस्न के दम पर मुतासिर करने वाले सुन
कहीं ऐसा न हो सब मेहरबानी से मर जाएँ

बड़ा नादान है तू जो ख़ुदा नादान का भी है
भला इसमें ही है तेरा तू नादानी से मर जाएँ

ख़ुदा ने जो भला रक्खा बुरे के भेस में रक्खा
तमाशा तय रहा दुनिया ये मनमानी से मर जाएँ

जहाँ भर में ख़ुदा को ढूँढना जो के ख़ुदी में है
कि हर प्यासा यहाँ पानी की निगरानी से मर जाएँ

मुझे कुछ भी नया लगता नहीं है ये भी आफ़त है
बिमारी तुम नई दोगे के पुरानी से मर जाएँ

- Gagan Bajad 'Aafat'
4 Likes

Self respect Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gagan Bajad 'Aafat'

As you were reading Shayari by Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Writers

our suggestion based on Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Moods

As you were reading Self respect Shayari Shayari