unke ghar se mere ghar ka rasta seedha karna hai | उनके घर से मेरे घर का रस्ता सीधा करना है - Gagan Bajad 'Aafat'

unke ghar se mere ghar ka rasta seedha karna hai
laakhon aashiq hod lagi hai kabza seedha karna hai

vaise ghar mein kuchh bhi nahin hai chand kitaaben ek bistar
vo ghar me aane waalen hai kamra seedha karna hai

dil toote ya ghar gir jaaye takleefen to hongi hi
ro bhi lenge lekin pehle malba seedha karna hai

chand lakeere dil o zehn par haavi hone waali hai
sarhad dil mein baith rahi hai naksha seedha karna hai

daanishmandon ki duniya me ek ham hai jo paagal hai
jinko is duniya mein sab kuchh seedha seedha karna hai

mere dil mein aane ko to itne saare raaji hain
mujhko bas itna karna hai lahja seedha karna hai

chit aaya to main tera hoon pat aaya to tu mera
bol zara teri marzi ye sikka seedha karna hai

aag lagaane waale jag mein jeene ka hak maang rahe
unke hak mein mujhko bas ye bhaala seedha karna hai

dharm kamaane waalon ne hi duniya ka nuksaan kiya
hau mushkil bharpoor magar ye ghaata seedha karna hai

yaar khilafat karne waale marte the mar jaayenge
mujhko marne se pehle ye khaaka seedha karna hai

उनके घर से मेरे घर का रस्ता सीधा करना है
लाखों आशिक़ होड़ लगी है कब्जा सीधा करना है

वैसे घर में कुछ भी नहीं है चंद किताबें एक बिस्तर
वो घर मे आने वालें है कमरा सीधा करना है

दिल टूटे या घर गिर जाए तकलीफें तो होंगी ही
रो भी लेंगे लेकिन पहले मलबा सीधा करना है

चंद लकीरे दिल ओ ज़हन पर हावी होने वाली है
सरहद दिल में बैठ रही है नक्शा सीधा करना है

दानिशमंदों की दुनिया मे एक हम है जो पागल है
जिनको इस दुनिया में सब कुछ सीधा सीधा करना है

मेरे दिल में आने को तो इतने सारे राजी हैं
मुझको बस इतना करना है लहजा सीधा करना है

चित आया तो मैं तेरा हूँ पट आया तो तू मेरा
बोल ज़रा तेरी मर्ज़ी? ये सिक्का सीधा करना है

आग लगाने वाले जग में जीने का हक मांग रहे
उनके हक में मुझको बस ये भाला सीधा करना है

धर्म कमाने वालों ने ही दुनिया का नुकसान किया
हौ मुश्किल भरपूर मगर ये घाटा सीधा करना है

यार खिलाफत करने वाले मरते थे मर जाएंगे
मुझको मरने से पहले ये खाका सीधा करना है

- Gagan Bajad 'Aafat'
1 Like

Sarhad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gagan Bajad 'Aafat'

As you were reading Shayari by Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Writers

our suggestion based on Gagan Bajad 'Aafat'

Similar Moods

As you were reading Sarhad Shayari Shayari