koi samjhaao dariya ki rawaani kaatti hai | कोई समझाओ दरिया की रवानी काटती है - Liaqat Jafri

koi samjhaao dariya ki rawaani kaatti hai
ki mere saans ko tishna-dahaani kaatti hai

main baahar to bahut achha hoon par andar hi andar
mujhe koi bala-e-na-gahaani kaatti hai

main dariya hoon magar kitna sataaya ja raha hoon
ki basti roz aa ke mera paani kaatti hai

zameen par hoon magar kat kat ke girta ja raha hoon
musalsal ik nigaah-e-aasmaani kaatti hai

main kuchh din se achaanak phir akela pad gaya hoon
naye mausam mein ik vehshat puraani kaatti hai

ki raja mar chuka hai aur shehzaade jawaan hain
ye raani kis tarah apni jawaani kaatti hai

nazar waalo tumhaari aankh se shikwa hai mujh ko
zabaan waalo tumhaari be-zabaani kaatti hai

कोई समझाओ दरिया की रवानी काटती है
कि मेरे साँस को तिश्ना-दहानी काटती है

मैं बाहर तो बहुत अच्छा हूँ पर अंदर ही अंदर
मुझे कोई बला-ए-ना-गहानी काटती है

मैं दरिया हूँ मगर कितना सताया जा रहा हूँ
कि बस्ती रोज़ आ के मेरा पानी काटती है

ज़मीं पर हूँ मगर कट कट के गिरता जा रहा हूँ
मुसलसल इक निगाह-ए-आसमानी काटती है

मैं कुछ दिन से अचानक फिर अकेला पड़ गया हूँ
नए मौसम में इक वहशत पुरानी काटती है

कि राजा मर चुका है और शहज़ादे जवाँ हैं
ये रानी किस तरह अपनी जवानी काटती है

नज़र वालो तुम्हारी आँख से शिकवा है मुझ को
ज़बाँ वालो तुम्हारी बे-ज़बानी काटती है

- Liaqat Jafri
0 Likes

Nazar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Liaqat Jafri

As you were reading Shayari by Liaqat Jafri

Similar Writers

our suggestion based on Liaqat Jafri

Similar Moods

As you were reading Nazar Shayari Shayari