Kumar Vishwas

Kumar Vishwas

मुद्दतें गुज़र गयी 'हिसाब' नहीं किया
न जाने अब किसके कितने रह गए हम

  • Sher
  • Ghazal
  • Nazm

More Writers like Kumar Vishwas

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals