andoh se hui na rihaai tamaam shab | अंदोह से हुई न रिहाई तमाम शब - Meer Taqi Meer

andoh se hui na rihaai tamaam shab
mujh dil-zada ko neend na aayi tamaam shab

jab main shuroo qissa kiya aankhen khol deen
yaani thi mujh ko chashm-numaai tamaam shab

chashmak chali gai thi sitaaron ki subh tak
ki aasmaan ne deeda-daraai tamaam shab

bakht-e-siyah ne der mein kal yaavari si ki
thi dushmanon se us ko ladai tamaam shab

baithe hi guzri vaade ki shab vo na aa fira
eeza ajab tarah ki uthaai tamaam shab

sannahten se dil se guzar jaayen so kahaan
bulbul ne go ki naala-saraai tamaam shab

taare se meri palkon pe qatre sarishk ke
dete rahe hain meer dikhaai tamaam shab

अंदोह से हुई न रिहाई तमाम शब
मुझ दिल-ज़दा को नींद न आई तमाम शब

जब मैं शुरू क़िस्सा किया आँखें खोल दीं
यानी थी मुझ को चश्म-नुमाई तमाम शब

चश्मक चली गई थी सितारों की सुब्ह तक
की आसमाँ ने दीदा-दराई तमाम शब

बख़्त-ए-सियह ने देर में कल यावरी सी की
थी दुश्मनों से उस को लड़ाई तमाम शब

बैठे ही गुज़री वादे की शब वो न आ फिरा
ईज़ा अजब तरह की उठाई तमाम शब

सन्नाहटें से दिल से गुज़र जाएँ सो कहाँ
बुलबुल ने गो की नाला-सराई तमाम शब

तारे से मेरी पलकों पे क़तरे सरिश्क के
देते रहे हैं 'मीर' दिखाई तमाम शब

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Aasman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Aasman Shayari Shayari