mujh soz ba'd-e-marg se aagaah kaun hai | मुझ सोज़ बा'द-ए-मर्ग से आगाह कौन है - Meer Taqi Meer

mujh soz ba'd-e-marg se aagaah kaun hai
sham-e-mazaar meer b-juz aah kaun hai

bekas hoon muztarib hoon musaafir hoon be-watan
doori-e-raah ban mere hamraah kaun hai

labreiz jis ke husn se masjid hai aur dair
aisa buton ke beech vo allah kaun hai

rakhiyo qadam sambhal ke ki tu jaanta nahin
maanind-e-naqsh-e-paa ye sar-e-raah kaun hai

aisa aseer khasta-jigar main suna nahin
har aah meer jis ki hai jaan-kaah kaun hai

मुझ सोज़ बा'द-ए-मर्ग से आगाह कौन है
शम-ए-मज़ार मीर ब-जुज़ आह कौन है

बेकस हूँ मुज़्तरिब हूँ मुसाफ़िर हूँ बे-वतन
दूरी-ए-राह बन मिरे हमराह कौन है

लबरेज़ जिस के हुस्न से मस्जिद है और दैर
ऐसा बुतों के बीच वो अल्लाह कौन है

रखियो क़दम सँभल के कि तू जानता नहीं
मानिंद-ए-नक़्श-ए-पा ये सर-ए-राह कौन है

ऐसा असीर ख़स्ता-जिगर मैं सुना नहीं
हर आह 'मीर' जिस की है जाँ-काह कौन है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Aahat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Aahat Shayari Shayari