juda jo pahluu se vo dilbar yagaana hua | जुदा जो पहलू से वो दिलबर यगाना हुआ - Meer Taqi Meer

juda jo pahluu se vo dilbar yagaana hua
tapish ki yaa tai dil ne ki dard shaana hua

jahaan ko fitne se khaali kabhu nahin paaya
hamaare waqt mein to aafat zamaana hua

khalish nahin kaso khwaahish ki raat se shaayad
sarishk-e-yaas ke parde mein dil ravana hua

ham apne dil ki chale dil hi mein liye yaa se
hazaar haif sar-e-harf us se vaa na hua

khula nashe mein jo pagdi ka pech us ki meer
samand-e-naaz pe ek aur taaziyaana hua

जुदा जो पहलू से वो दिलबर यगाना हुआ
तपिश की याँ तईं दिल ने कि दर्द शाना हुआ

जहाँ को फ़ित्ने से ख़ाली कभू नहीं पाया
हमारे वक़्त में तो आफ़त ज़माना हुआ

ख़लिश नहीं कसो ख़्वाहिश की रात से शायद
सरिश्क-ए-यास के पर्दे में दिल रवाना हुआ

हम अपने दिल की चले दिल ही में लिए याँ से
हज़ार हैफ़ सर-ए-हर्फ़ उस से वा न हुआ

खुला नशे में जो पगड़ी का पेच उस की 'मीर'
समंद-ए-नाज़ पे एक और ताज़ियाना हुआ

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Andhera Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Andhera Shayari Shayari