Farhat Abbas Shah

Farhat Abbas Shah

इसी से जान गया मैं कि बख़्त ढलने लगे
मैं थक के छाँव में बैठा तो पेड़ चलने लगे

मैं दे रहा था सहारे तो इक हुजूम में था
जो गिर पड़ा तो सभी रास्ता बदलने लगे

  • Sher
  • Ghazal

More Writers like Farhat Abbas Shah

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals