main kab se apni talash mein hoon mila nahi hoon | मैं कब से अपनी तलाश में हूं मिला नही हूं - Pirzada Qasim

main kab se apni talash mein hoon mila nahi hoon
sawaal ye hai ke main kahi hoon bhi ya nahi hoon

ye mere hone se aur na hone se munkashif hai
ke razm-e-hasti mein kya hoon main aur kya nahin hoon

main shab nizaadon mein subh-e-farda ki aarjoo hoon
main apne imkaan mein raushni hoon saba nahin hoon

gulaab ki tarah ishq mera mahak raha hai
magar abhi us ki kisht-e-dil mein khil nahin hoon

na jaane kitne khudaaon ke darmiyaan hoon lekin
abhi main apne hi haal mein hoon khuda nahin hoon

kabhi to iqaal-mand hogi meri mohabbat
nahin hai imkaan koi magar maanta nahin hoon

hawaon ki dastaras mein kab hoon jo bujh rahunga
main istiaara hoon raushni ka diya nahin hoon

main apni aarzoo ki chashm-e-malaal mein hoon
khula hai dar khwaam ka magar dekhta nahin hoon

udhar tasalsul se shab ki yalghaar hai idhar main
bujha nahin hoon bujha nahin hoon bujha nahin hoon

bahut zaroori hai ahd-e-nau ko jawaab dena
so teekhe lehje mein bolta hoon khafa nahin hoon

मैं कब से अपनी तलाश में हूं मिला नही हूं
सवाल ये है के मैं कहीं हूं भी या नही हूं

ये मेरे होने से और न होने से मुंकशिफ़ है
के रज़्म-ए-हस्ती में क्या हूं मैं और क्या नहीं हूं

मैं शब निज़ादों में सुब्ह-ए-फ़र्दा की आरजू हूं
मैं अपने इम्कां में रौशनी हूं सबा नहीं हूं

गुलाब की तरह इशक़ मेरा महक रहा है
मगर अभी उस की किशत-ए-दिल में खिल नहीं हूं

न जाने कितने ख़ुदाओं के दरमियां हूं लेकिन
अभी मैं अपने ही हाल में हूं ख़ुदा नहीं हूं

कभी तो इक़बाल-मंद होगी मेरी मोहब्बत
नहीं है इम्कां कोई मगर मानता नहीं हूं

हवाओं की दस्तरस में कब हूं जो बुझ रहूंगा
मैं इस्तिआरा हूं रौशनी का दिया नहीं हूं

मैं अपनी आरज़ू की चश्म-ए-मलाल में हूं
खुला है दर ख़्वाम का मगर देखता नहीं हूं

उधर तसलसुल से शब की यलग़ार है इधर मैं
बुझा नहीं हूं बुझा नहीं हूं बुझा नहीं हूं

बहुत ज़रूरी है अहद-ए-नौ को जवाब देना
सो तीखे लहजे में बोलता हूं ख़फ़ा नहीं हूं

- Pirzada Qasim
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Pirzada Qasim

As you were reading Shayari by Pirzada Qasim

Similar Writers

our suggestion based on Pirzada Qasim

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari