jab qatl hua hain to kaatil bhi hoga | जब क़त्ल हुआ हैं तो कातिल भी होगा - Praveen Bhardwaj

jab qatl hua hain to kaatil bhi hoga
koi ilaaj-e-zakhm-e-dil bhi hoga

hamse mat kaho us se sukhun ki baatein
ham bata sakte hain kahaan pe til bhi hoga

safar mein umr guzre par iske aakhir mein
khone waalon ko aakhir haasil bhi hoga

aaj aasaan hain raasta to taiyaari mein raho
mumkin hain waqt kahi mushkil bhi hoga

yahan koi mehfil khaali kahaan rahti hain
koi chhod jayega koi shaamil bhi hoga

जब क़त्ल हुआ हैं तो कातिल भी होगा
कोई ईलाज-ए-ज़ख्म-ए-दिल भी होगा

हमसे मत कहो उस से सुख़न की बातें
हम बता सकते हैं कहाँ पे तिल भी होगा

सफ़र में उम्र गुज़रे पर इसके आख़िर में
खोने वालों को आख़िर हासिल भी होगा

आज आसान हैं रास्ता तो तैयारी में रहो
मुमकिन हैं वक़्त कहीं मुश्किल भी होगा

यहाँ कोई महफ़िल ख़ाली कहाँ रहती हैं
कोई छोड़ जायेगा कोई शामिल भी होगा

- Praveen Bhardwaj
2 Likes

Qatil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Praveen Bhardwaj

As you were reading Shayari by Praveen Bhardwaj

Similar Writers

our suggestion based on Praveen Bhardwaj

Similar Moods

As you were reading Qatil Shayari Shayari