ishq ki ik rangeen sada par barase rang | इश्क़ की इक रंगीन सदा पर बरसे रंग - Swapnil Tiwari

ishq ki ik rangeen sada par barase rang
rang ho majnoon aur leila par barase rang

kab tak chunri par hi zulm hon rangon ke
rangrezaa teri bhi qaba par barase rang

khwaab bharen tiri aankhen meri aankhon mein
ek ghatta se ek ghatta par barase rang

ik satrangi khushboo odh ke nikle tu
is be-rang udaas hawa par barase rang

ai devi rukhsaar pe tere rang lage
jogi ki almast jata par barase rang

mere anaasir khaak na hon bas rang banen
aur jungle sehra dariya par barase rang

suraj apne par jhatke aur subh ude
neend nahaai is duniya par barase rang

इश्क़ की इक रंगीन सदा पर बरसे रंग
रंग हो मजनूँ और लैला पर बरसे रंग

कब तक चुनरी पर ही ज़ुल्म हों रंगों के
रंगरेज़ा तेरी भी क़बा पर बरसे रंग

ख़्वाब भरें तिरी आँखें मेरी आँखों में
एक घटा से एक घटा पर बरसे रंग

इक सतरंगी ख़ुश्बू ओढ़ के निकले तू
इस बे-रंग उदास हवा पर बरसे रंग

ऐ देवी रुख़्सार पे तेरे रंग लगे
जोगी की अलमस्त जटा पर बरसे रंग

मेरे अनासिर ख़ाक न हों बस रंग बनें
और जंगल सहरा दरिया पर बरसे रंग

सूरज अपने पर झटके और सुब्ह उड़े
नींद नहाई इस दुनिया पर बरसे रंग

- Swapnil Tiwari
1 Like

Pollution Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Pollution Shayari Shayari