hawa baaton ki jo chalne lagi hai | हवा बातों की जो चलने लगी है - Swapnil Tiwari

hawa baaton ki jo chalne lagi hai
so ik afwaah bhi udne lagi hai

hum aawazon se khaali ho rahe hain
khala mein hook si uthne lagi hai

kahaan rehta hai ghar koi bhi khaali
in aankhon mein nami rahne lagi hai

hui baligh meri tanhaai aakhir
kisi ki aarzoo karne lagi hai

musalsal raushni ki baarishon se
nazar mein kaai si jamne lagi hai

हवा बातों की जो चलने लगी है
सो इक अफ़्वाह भी उड़ने लगी है

हम आवाज़ों से ख़ाली हो रहे हैं
ख़ला में हूक सी उठने लगी है

कहाँ रहता है घर कोई भी ख़ाली
इन आँखों में नमी रहने लगी है

हुई बालिग़ मिरी तन्हाई आख़िर
किसी की आरज़ू करने लगी है

मुसलसल रौशनी की बारिशों से
नज़र में काई सी जमने लगी है

- Swapnil Tiwari
1 Like

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari