ye dhoop giri hai jo mere lawn mein aa kar | ये धूप गिरी है जो मिरे लॉन में आ कर - Swapnil Tiwari

ye dhoop giri hai jo mere lawn mein aa kar
le jaayegi jaldi hi ise shaam utha kar

seene mein chhupa shaam ki aankhon se bacha kar
ik lehar ko hum laaye samundar se utha kar

haan waqt se pehle hi uda degi ise subh
rakhi na gai chaand se gar shab ye daba kar

ik subh bhali si mere nazdeek se guzri
main baitha raha hijr ki ik raat bichha kar

phir subh se hi aaj alam dekh rahe hain
yaadon ki koi film mere dil mein chala kar

phir chaai mein biscut ki tarah bhooki si ye shaam
kha jaayegi suraj ko samundar mein duba kar

ये धूप गिरी है जो मिरे लॉन में आ कर
ले जाएगी जल्दी ही इसे शाम उठा कर

सीने में छुपा शाम की आँखों से बचा कर
इक लहर को हम लाए समुंदर से उठा कर

हाँ वक़्त से पहले ही उड़ा देगी इसे सुब्ह
रक्खी न गई चाँद से गर शब ये दबा कर

इक सुब्ह भली सी मिरे नज़दीक से गुज़री
मैं बैठा रहा हिज्र की इक रात बिछा कर

फिर सुब्ह से ही आज अलम देख रहे हैं
यादों की कोई फ़िल्म मिरे दिल में चला कर

फिर चाय में बिस्कुट की तरह भूकी सी ये शाम
खा जाएगी सूरज को समुंदर में डुबा कर

- Swapnil Tiwari
0 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari