neend se aa kar baitha hai | नींद से आ कर बैठा है - Swapnil Tiwari

neend se aa kar baitha hai
khwaab mere ghar baitha hai

aks mera aaine mein
le kar patthar baitha hai

palkein jhuki hain sehra ki
jis pe samundar baitha hai

ek bagoola yaadon ka
kha kar chakkar baitha hai

us ki neendon par ik khwaab
titli ban kar baitha hai

raat ki table buk kar ke
chaand dinner par baitha hai

andhiyaara khaamoshi ki
odh ke chadar baitha hai

aatish dhoop gai kab ki
ghar mein kyunkar baitha hai

नींद से आ कर बैठा है
ख़्वाब मिरे घर बैठा है

अक्स मिरा आईने में
ले कर पत्थर बैठा है

पलकें झुकी हैं सहरा की
जिस पे समुंदर बैठा है

एक बगूला यादों का
खा कर चक्कर बैठा है

उस की नींदों पर इक ख़्वाब
तितली बन कर बैठा है

रात की टेबल बुक कर के
चाँद डिनर पर बैठा है

अँधियारा ख़ामोशी की
ओढ़ के चादर बैठा है

'आतिश' धूप गई कब की
घर में क्यूँकर बैठा है

- Swapnil Tiwari
2 Likes

Tasweer Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Tasweer Shayari Shayari