dheere dheere dhalti suraj ka safar mera bhi hai | धीरे धीरे ढलते सूरज का सफ़र मेरा भी है - Swapnil Tiwari

dheere dheere dhalti suraj ka safar mera bhi hai
shaam batlaati hai mujh ko ek ghar mera bhi hai

jis nadi ka tu kinaara hai usi ka main bhi hoon
tere hisse mein jo hai vo hi bhanwar mera bhi hai

ek pagdandi chali jungle mein bas ye soch kar
dasht ke us paar shaayad ek ghar mera bhi hai

phoote hi ek ankur ne darakhton se kaha
aasmaan ik chahiye mujh ko ki sar mera bhi hai

aaj bedaari mujhe shab bhar ye samjhaati rahi
ik zara sa haq tumhaare khwaabon par mera bhi hai

mere ashkon mein chhupi thi swaati ki ik boond bhi
is samundar mein kahi par ik guhar mera bhi hai

shaakh par shab ki lage is chaand mein hai dhoop jo
vo meri aankhon ki hai so vo samar mera bhi hai

tu jahaan par khaak udaane ja raha hai ai junoon
haan unhin veeraaniyon mein ik khandar mera bhi hai

jaan jaate hain pata aatish dhuen se sab mera
sochta rehta hoon kya koi mafar mera bhi hai

धीरे धीरे ढलते सूरज का सफ़र मेरा भी है
शाम बतलाती है मुझ को एक घर मेरा भी है

जिस नदी का तू किनारा है उसी का मैं भी हूँ
तेरे हिस्से में जो है वो ही भँवर मेरा भी है

एक पगडंडी चली जंगल में बस ये सोच कर
दश्त के उस पार शायद एक घर मेरा भी है

फूटते ही एक अंकुर ने दरख़्तों से कहा
आसमाँ इक चाहिए मुझ को कि सर मेरा भी है

आज बेदारी मुझे शब भर ये समझाती रही
इक ज़रा सा हक़ तुम्हारे ख़्वाबों पर मेरा भी है

मेरे अश्कों में छुपी थी स्वाती की इक बूँद भी
इस समुंदर में कहीं पर इक गुहर मेरा भी है

शाख़ पर शब की लगे इस चाँद में है धूप जो
वो मिरी आँखों की है सो वो समर मेरा भी है

तू जहाँ पर ख़ाक उड़ाने जा रहा है ऐ जुनूँ
हाँ उन्हीं वीरानियों में इक खंडर मेरा भी है

जान जाते हैं पता 'आतिश' धुएँ से सब मिरा
सोचता रहता हूँ क्या कोई मफ़र मेरा भी है

- Swapnil Tiwari
0 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari