itni kaali raat hai ghar mein | इतनी काली रात है घर में - Swapnil Tiwari

itni kaali raat hai ghar mein
farq nahin aankh aur manzar mein

aisi lambi neend hai meri
keede pad gaye hain bistar mein

aadhi raat ik khwaab ne aakar
aag laga di hai chadar mein

uske saare bande mar gaye
ab vo khuda hai ajaayabghar mein

shaakh-e-khuda pe hain patte iske
aadmi ki jad hai bandar mein

इतनी काली रात है घर में
फ़र्क़ नहीं आंख और मंज़र में

ऐसी लंबी नींद है मेरी
कीड़े पड़ गए हैं बिस्तर में

आधी रात इक ख़्वाब ने आकर
आग लगा दी है चादर में

उसके सारे बंदे मर गए
अब वो ख़ुदा है अजायबघर में

शाख़े-ख़ुदा पे हैं पत्ते इसके
आदमी की जड़ है बंदर में

- Swapnil Tiwari
0 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari