Kaif Bhopali

Kaif Bhopali

साया है कम खजूर के ऊँचे दरख़्त का
उम्मीद बाँधिए न बड़े आदमी के साथ

  • Sher
  • Ghazal

More Writers like Kaif Bhopali

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals