Saarthi Baidyanath

Saarthi Baidyanath

तेरी सूरत और सीरत यूँ है जैसे
आइने पर आइना रक्खा हुआ है

  • Sher
  • Ghazal

LOAD MORE

More Writers like Saarthi Baidyanath

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals