soone soone se falak par ik ghatta banti hui | सूने सूने से फ़लक पर इक घटा बनती हुई - Swapnil Tiwari

soone soone se falak par ik ghatta banti hui
dheere dheere us ki aamad ki fazaa banti hui

janam ka bas ek lamha aur ab ye zindagi
ik zara si baat badh kar mas'ala banti hui

qaid si lagne lagi hai mujh ko ye aawaargi
ab to aazaadi bhi meri ik saza banti hui

teri di har chot ik lazzat si hai mere liye
ab ye lazzat daaimi sa zaa'ika banti hui

kar gai hai kis qadar masroof mujh ko dekhiye
meri subh-o-shaam ka vo mashghala banti hui

hain sabhi toote hue ye jaan paaya jab dukhi
meri ik tooti sada sab ki sada banti hui

ai mere saaye mila hai jab se tujh sa hum-safar
raaste ki har museebat raasta banti hui

tham chuki thi jab ki har halchal tiri yaad aayi phir
zindagi ki satah par ik bulbulaa banti hui

meri aankhen hain abhi bhi is tilismi qaid mein
is ki vo dhundli si soorat jaa-b-jaa banti hui

is jalan ke saath hi rahna hai ab aatish mujhe
jo meri zid thi kabhi ab vo ana banti hui

सूने सूने से फ़लक पर इक घटा बनती हुई
धीरे धीरे उस की आमद की फ़ज़ा बनती हुई

जन्म का बस एक लम्हा और अब ये ज़िंदगी
इक ज़रा सी बात बढ़ कर मसअला बनती हुई

क़ैद सी लगने लगी है मुझ को ये आवारगी
अब तो आज़ादी भी मेरी इक सज़ा बनती हुई

तेरी दी हर चोट इक लज़्ज़त सी है मेरे लिए
अब ये लज़्ज़त दाइमी सा ज़ाइक़ा बनती हुई

कर गई है किस क़दर मसरूफ़ मुझ को देखिए
मेरी सुब्ह-ओ-शाम का वो मश्ग़ला बनती हुई

हैं सभी टूटे हुए ये जान पाया जब दुखी
मेरी इक टूटी सदा सब की सदा बनती हुई

ऐ मिरे साए मिला है जब से तुझ सा हम-सफ़र
रास्ते की हर मुसीबत रास्ता बनती हुई

थम चुकी थी जब कि हर हलचल तिरी याद आई फिर
ज़िंदगी की सतह पर इक बुलबुला बनती हुई

मेरी आँखें हैं अभी भी इस तिलिस्मी क़ैद में
इस की वो धुँदली सी सूरत जा-ब-जा बनती हुई

इस जलन के साथ ही रहना है अब 'आतिश' मुझे
जो मिरी ज़िद थी कभी अब वो अना बनती हुई

- Swapnil Tiwari
1 Like

Sazaa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Sazaa Shayari Shayari