mere ghar mein na hogi raushni kya | मिरे घर में न होगी रौशनी क्या - Swapnil Tiwari

mere ghar mein na hogi raushni kya
nahin aaoge is jaanib kabhi kya

chahakti bolti aankhon mein chuppi
unhen chubhne lagi meri kami kya

khud us ka rang peecha kar rahe hain
kahi dekhi hai aisi saadgi kya

liptati hain mere pairo'n se lahren
mujhe pahchaanti hai ye nadi kya

main is shab se to uktaaya hua hoon
sehar de paayegi kuch taazgi kya

tiri aahat ki dhoop aati nahin hai
samaat bhi meri kumhala gai kya

khamoshi barf si aatish jamee thi
nazar ki aanch se vo gal gai kya

मिरे घर में न होगी रौशनी क्या
नहीं आओगे इस जानिब कभी क्या

चहकती बोलती आँखों में चुप्पी
उन्हें चुभने लगी मेरी कमी क्या

ख़ुद उस का रंग पीछा कर रहे हैं
कहीं देखी है ऐसी सादगी क्या

लिपटती हैं मिरे पैरों से लहरें
मुझे पहचानती है ये नदी क्या

मैं इस शब से तो उकताया हुआ हूँ
सहर दे पाएगी कुछ ताज़गी क्या

तिरी आहट की धूप आती नहीं है
समाअत भी मिरी कुम्हला गई क्या

ख़मोशी बर्फ़ सी 'आतिश' जमी थी
नज़र की आँच से वो गल गई क्या

- Swapnil Tiwari
0 Likes

Aahat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Aahat Shayari Shayari