Krishnakant Kabk

Krishnakant Kabk

मोहब्बत से मोहब्बत मिल गई जैसे
कि सहरा में कली इक खिल गई जैसे

न जाने कैसे तुम बिन जी रहा था मैं
समझ लो हर घड़ी मुश्किल गई जैसे

  • Sher
  • Ghazal
  • Nazm

LOAD MORE

More Writers like Krishnakant Kabk

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals