ab us jaanib se is kasrat se tohfe aa rahe hain | अब उस जानिब से इस कसरत से तोहफे आ रहे हैं - Tehzeeb Hafi

ab us jaanib se is kasrat se tohfe aa rahe hain
ke ghar mein hum nayi almaariyaan banwa rahe hain

hame milna to in aabaadiyon se door milna
usse kehna gaye waktuu mein hum dariya rahe hain

tujhe kis kis jagah par apne andar se nikaalen
hum is tasveer mein bhi tuujhse mil ke aa rahe hain

hazaaron log usko chahte honge humein kya
ke hum us geet mein se apna hissa ga rahe hain

bure mausam ki koi had nahin tahzeeb haafi
fiza aayi hai aur pinjaron mein par murjha rahe hain

अब उस जानिब से इस कसरत से तोहफे आ रहे हैं
के घर में हम नई अलमारियाँ बनवा रहे हैं।

हमे मिलना तो इन आबादियों से दूर मिलना
उससे कहना गए वक्तू में हम दरिया रहे हैं।

तुझे किस किस जगह पर अपने अंदर से निकालें
हम इस तस्वीर में भी तूझसे मिल के आ रहे हैं।

हजारों लोग उसको चाहते होंगे हमें क्या
के हम उस गीत में से अपना हिस्सा गा रहे हैं।

बुरे मौसम की कोई हद नहीं तहजीब हाफी
फिजा आई है और पिंजरों में पर मुरझा रहे हैं।

- Tehzeeb Hafi
29 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari