musalsal vaar karne par bhi zarra bhar nahin toota | मुसलसल वार करने पर भी ज़र्रा भर नहीं टूटा - Tehzeeb Hafi

musalsal vaar karne par bhi zarra bhar nahin toota
main patthar ho gaya phir bhi tera khanjar nahin toota

mujhe barbaad karne tak hi uske aastaan toote
mera dil tootne ke baad uska ghar nahin toota

ham uska gham bhala qismat pe kaise taal sakte hain
hamaare haath mein toota hai vo girkar nahin toota

saroon par aasmaan aankhon se aaine nazar se dil
bahut kuchh toot saka tha bahut kuchh par nahin toota

tilism-e-yaar mein jab bhi kami aayi nami aayi
un aankhon mein jinhen lagta tha farmaish nahin toota

tere bheje hue teshon ki dhaarein tez thi haafi
magar insey ye koh-e-gham ziyaada tar nahin toota

मुसलसल वार करने पर भी ज़र्रा भर नहीं टूटा
मैं पत्थर हो गया फिर भी तेरा ख़ंजर नहीं टूटा

मुझे बर्बाद करने तक ही उसके आस्ताँ टूटे
मेरा दिल टूटने के बाद उसका घर नहीं टूटा

हम उसका ग़म भला क़िस्मत पे कैसे टाल सकते हैं
हमारे हाथ में टूटा है वो गिरकर नहीं टूटा

सरों पर आसमाँ आँखों से आईने नज़र से दिल
बहुत कुछ टूट सकता था बहुत कुछ पर नहीं टूटा

तिलिस्म-ए-यार में जब भी कमी आई नमी आई
उन आँखों में जिन्हें लगता था जादूगर नहीं टूटा

तेरे भेजे हुए तेशों की धारें तेज़ थी 'हाफ़ी'
मगर इनसे ये कोह-ए-ग़म ज़ियादा तर नहीं टूटा

- Tehzeeb Hafi
41 Likes

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari