jaane waale se raabta rah jaaye | जाने वाले से राब्ता रह जाए - Tehzeeb Hafi

jaane waale se raabta rah jaaye
ghar ki deewaar par diya rah jaaye

ik nazar jo bhi dekh le tujh ko
vo tire khwaab dekhta rah jaaye

itni girhen lagi hain is dil par
koi khole to kholta rah jaaye

koi kamre mein aag taapta ho
koi baarish mein bheegta rah jaaye

neend aisi ki raat kam pad jaaye
khwaab aisa ki munh khula rah jaaye

jheel saif-ul-mulook par jaaun
aur kamre mein camera rah jaaye

जाने वाले से राब्ता रह जाए
घर की दीवार पर दिया रह जाए

इक नज़र जो भी देख ले तुझ को
वो तिरे ख़्वाब देखता रह जाए

इतनी गिर्हें लगी हैं इस दिल पर
कोई खोले तो खोलता रह जाए

कोई कमरे में आग तापता हो
कोई बारिश में भीगता रह जाए

नींद ऐसी कि रात कम पड़ जाए
ख़्वाब ऐसा कि मुँह खुला रह जाए

झील सैफ़-उल-मुलूक पर जाऊँ
और कमरे में कैमरा रह जाए

- Tehzeeb Hafi
32 Likes

Nazar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Nazar Shayari Shayari