ghar mein bhi dil nahin lag raha kaam par bhi nahin ja raha | घर में भी दिल नहीं लग रहा, काम पर भी नहीं जा रहा - Tehzeeb Hafi

ghar mein bhi dil nahin lag raha kaam par bhi nahin ja raha
jaane kya khauf hai jo tujhe choom kar bhi nahin ja raha

raat ke teen bajne ko hain yaar ye kaisa mehboob hai
jo gale bhi nahin lag raha aur ghar bhi nahin ja raha

घर में भी दिल नहीं लग रहा, काम पर भी नहीं जा रहा
जाने क्या ख़ौफ़ है जो तुझे चूम कर भी नहीं जा रहा

रात के तीन बजने को हैं, यार ये कैसा महबूब है?
जो गले भी नहीं लग रहा और घर भी नहीं जा रहा

- Tehzeeb Hafi
223 Likes

Friendship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Friendship Shayari Shayari