mujh se milta hai par jism ki sarhad paar nahin karta | मुझ से मिलता है पर जिस्म की सरहद पार नहीं करता - Tehzeeb Hafi

mujh se milta hai par jism ki sarhad paar nahin karta
iska matlab tu bhi mujhse saccha pyaar nahin karta

dushman achha ho to jang mein dil ko thaaras rahti hai
dushman achha ho to vo peeche se vaar nahin karta

roz tujhe toote dil kam qeemat par lena padte hain
isse achha tha tu ishq ka kaarobaar nahin karta

मुझ से मिलता है पर जिस्म की सरहद पार नहीं करता
इसका मतलब तू भी मुझसे सच्चा प्यार नहीं करता

दुश्मन अच्छा हो तो जंग में दिल को ठारस रहती है
दुश्मन अच्छा हो तो वो पीछे से वार नहीं करता

रोज तुझे टूटे दिल कम क़ीमत पर लेना पड़ते हैं
इससे अच्छा था तू इश्क़ का कारोबार नहीं करता

- Tehzeeb Hafi
53 Likes

Dushman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Dushman Shayari Shayari