uske haathon mein jo khanjar hai zyaada tez hai | उसके हाथों में जो खंजर है ज्यादा तेज है - Tehzeeb Hafi

uske haathon mein jo khanjar hai zyaada tez hai
aur phir bachpan se hi uska nishaana tez hai

jab kabhi us paar jaane ka khyaal aata mujhe
koi aahista se kehta tha ki dariya tez hai

aaj milna tha bichhad jaane ki niyat se hame
aaj bhi vo der se pahuncha hai kitna tez hai

apna sab kuch haar ke laut aaye ho na mere paas
mai tumhe kehta bhi rehta ki duniya tez hai

aaj uske gaal choome hain to andaaza hua
chaai achhi hai magar thoda sa meetha tez hai

उसके हाथों में जो खंजर है ज्यादा तेज है
और फिर बचपन से ही उसका निशाना तेज है

जब कभी उस पार जाने का ख्याल आता मुझे
कोई आहिस्ता से कहता था की दरिया तेज है

आज मिलना था बिछड़ जाने की नीयत से हमे
आज भी वो देर से पंहुचा है कितना तेज है

अपना सब कुछ हार के लौट आये हो न मेरे पास
मै तुम्हे केहता भी रहता की दुनिया तेज है

आज उसके गाल चूमे हैं तो अंदाजा हुआ
चाय अच्छी है मगर थोडा सा मीठा तेज है

- Tehzeeb Hafi
188 Likes

Hijr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Hijr Shayari Shayari