Ismail Raaz

Ismail Raaz

मैंने उसको इतना देखा, जितना देखा जा सकता था
लेकिन फिर भी दो आँखों से कितना देखा जा सकता था

  • Sher
  • Ghazal

More Writers like Ismail Raaz

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals