teri taraf mera khayal kya gaya | तेरी तरफ़ मेरा ख़याल क्या गया - Tehzeeb Hafi

teri taraf mera khayal kya gaya
ke phir main tujhko sochta chala gaya

ye shehar ban raha tha mere saamne
ye geet mere saamne likha gaya

ye vasl saari umr par muheet hai
ye hijr ek raat mein samaa gaya

mujhe kisi ki aas thi na pyaas thi
ye phool mujhko bhool kar diya gaya

bichhad ke saans khenchna muhaal tha
main zindagi se haath khenchta gaya

main ek roz dast kya gaya ke phir
vo baagh mere haath se chala gaya

तेरी तरफ़ मेरा ख़याल क्या गया
के फिर मैं तुझको सोचता चला गया

ये शहर बन रहा था मेरे सामने
ये गीत मेरे सामने लिखा गया

ये वस्ल सारी उम्र पर मुहीत है
ये हिज्र एक रात में समा गया

मुझे किसी की आस थी न प्यास थी
ये फूल मुझको भूल कर दिया गया

बिछड़ के साँस खेंचना मुहाल था
मैं ज़िंदगी से हाथ खेंचता गया

मैं एक रोज दस्त क्या गया के फिर
वो बाग़ मेरे हाथ से चला गया

- Tehzeeb Hafi
46 Likes

Nazara Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Nazara Shayari Shayari